कोशिका और उसके कोशिकांग Pdf In Hindi

0

कोशिका और उसके कोशिकांग Pdf In Hindi

This PDF Notes Contains कोशिका और उसके कोशिकांग Pdf In Hindi – UPSC Notes, SSC Notes

Dear Followers, SSCUPSCNOTES.COM Blog is know for Free Study Material in Hindi and English. On this blog we provide कोशिका और उसके कोशिकांग Pdf In Hindi for various competitive exams in India. Here you can Download Free PDF on Daily basis.

SSCUPSCNOTES.COM Website provides History Class Notes, Ancient History Class Notes in Hindi, Medieval History Handwritten Notes, Modern History Study Material in Hindi and English.

To make your competitive exams even easier, today we have brought for you कोशिका और उसके कोशिकांग Pdf In Hindi This pdf will play a very important role in your upcoming competitive exams like – Bank Railway Rrb Ntpc Ssc Cgl and many other exams. This pdf is very important for the exam, it is being provided to you absolutely free, which you can download by clicking on the Download button below to get even more important pdfs. A. You can go pdf download in Riletid Notes

SSCUPSCNOTES.COM is an online education platform, here you can download Pdf for all competitive exams like – Bank Railway Rrb Ntpc Upsc Ssc Cgl and also for other competitive exams.

SSCUPSCNOTES.COM will update many more new Pdfs, keep visiting and update our posts and more people will get it

  1. All Classes NCERT Book Pdf In Hindi
  2. 15500+ Platform Gs In Hindi Books By Rukmini Publication
  3. Static GK PDF Download in Hindi
  4. Math Percentage PDF Download In Hindi
  5. 1100+ Biology Questions In Hindi
  6. 777+ Most Important GK One Liner Question in Hindi
  7. Railway General Science Questions In Hindi
  8. Latest Gk Current Affairs In Hindi
  9. प्रमुख बीमारियां एवं रोग Handwriting Notes
  10. Solar System Questions In Hindi
  11. Next Exam Current Affairs 2019-2020 Top 100 Mcqs in hindi
  12. 1300 Maths Formula Pdf In Hindi
  13. Environment Studies in Hindi : पर्यावरण अध्यन के सर्वश्रेस्ट नोट्स
  14. Rivers Of India In Hindi
  15. भारतीय संविधान के अनुच्छेद एवं अनुसूचियाँ

कोशिका : संरचना एवं कार्य

पृथ्वी पर पाए जाने वाले सभी जीवों को दो वर्गों में बाँटा जा सकता है:

1. अकोशिकीय जैव अर्थात् ऐसे जीव जिनमें कोई कोशिका नहीं पाई जाती है, जैसे- विषाणु (Virus)|

2. कोशिकीय जीव अर्थात् ऐसे जीव जिनमें एक या एक से अधिक कोशिकाएं पाई जाती हैं | कोशिकीय प्राणियों को पुनः प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक नामक दो भागों में बाँटा जाता है|

  1. A. प्रोकैरियोटिक जीव
  2. B. यूकैरियोटिक जीव

प्रोकैरियोटिक जीवों की विशेषताएं निम्नलिखित है :

  1. इन जीवों में अविकसित और आदिम (Primitive) कोशिकाएं पाई जाती हैं
  2.  इनका आकार छोटा होता है
  3.  केन्द्रक नहीं पाया जाता है
  4.  केन्द्रक द्रव्य भी नहीं पाया जाता है
  5.  केवल एक क्रोमोसोम पाया जाता है
  6.  कोशिकांग भी कोशिका भित्ति से घिरे हुए नहीं पाए जाते हैं
  7.  कोशिका विभाजन असूत्री विभाजन (Amitosis) द्वारा होता है
  8.  जीवाणु (Bacteria) व नील-हरित शैवाल जैसे साइनोबैक्टीरिया  प्रोकैरियोटिक जीवों के उदाहरण हैं|

यूकैरियोटिक जीवों की विशेषताएं निम्नलिखित है :

  1. इनमें विकसित और नवीन कोशिकाएं पाई जाती हैं
  2.  इनका आकार बड़ा होता है
  3. केन्द्रक पाया जाता है
  4. केन्द्रक द्रव्य भी पाया जाता है
  5.  एक से अधिक क्रोमोसोम पाए जाते हैं
  6. कोशिकांग भी कोशिका भित्ति से घिरे हुए पाए जाते हैं
  7.  कोशिका विभाजन समसूत्री विभाजन (Mitosis) और अर्धसूत्री विभाजन (Meiosis) द्वारा होता है

कोशिका की संरचना

सभी कोशिकाओं में तीन निम्नलिखित कार्यात्मक क्षेत्र (Functional Region) पाए जाते हैं :

  1.  कोशिका या प्लाज्मा झिल्ली(Cell or Plasma Membrane) और कोशिका भित्ति (Cell Wall)
  2. केन्द्रक/न्यूक्लियस (Nucleus)
  3. केन्द्रक द्रव्य/साइटोप्लाज्म (Cytoplasm)

कोशिका की बाहरी सतह प्लाज्मा झिल्ली होती है, जिसके अन्दर केन्द्रक द्रव्य/साइटोप्लाज्म पाया जाता है | माइटोकांड्रिया (Mitochondria), क्लोरोप्लास्ट (Chloroplasts) आदि विभिन्न कोशिकांग साइटोप्लाज्म में ही तैरते हुए पाए जाते हैं |

अंग (Organs) कोशिकांग (Cell Organelles)
1. ये बहुकोशिकीय जीवों में पाए जाते हैं| 1. ये सभी यूकैरियोटिक जीवों में पाए जाते हैं|
2. इनका आकार बड़ा होता है | 2. इनका आकार छोटा होता है |
3. ये किसी भी जीव के शरीर के ऊपर या नीचे पाए जा सकते हैं | 3. ये प्रायः आतंरिक (Internal) होते हैं |
4. अंगों का निर्माण ऊतकों (Tissues) से होता है और ऊतकों का निर्माण कोशिकाओं से होता है | कोशिका के अन्दर ही कोशिकांग पाए जाते हैं | 4. इनका निर्माण सूक्ष्म और वृहद् अणुओं (Molecules) से होता है |
5. अंग आपस में मिलकर अंग-प्रणाली का निर्माण करते हैं और अंग प्रणाली किसी जीव के शरीर का निर्माण करती है | 5. कोशिकांग आपस में मिलकर कोशिका का निर्माण करते हैं |

प्लाज्मा झिल्ली के कार्य:

प्लाज्मा झिल्ली कुछ पदार्थों के कोशिका के अन्दर और बाहर जाने पर नियंत्रण रखती है | अतः प्लाज्मा झिल्ली को चयनात्मक पारगम्य झिल्ली (Selective Permeable Membrane) भी कहते हैं |

(i) प्रसरण (Diffusion) : अधिक सघन (Condense) पदार्थ से कम सघन पदार्थ की ओर प्रवाह प्रसरण कहलाता है| यह प्रवाह तब तक होता रहता है जब तक दोनों पदार्थों की सघनता समान न हो जाये| प्रसरण की दर गैसीय पदार्थों में द्रव व तरल पदार्थों की तुलना में अधिक होती है |

(j) परासरण (Osmosis) : आंशिक रूप से पारगम्य (Permeable) झिल्ली के सहारे उच्च जलीय सांद्रता (Concentration) वाले भाग से निम्न जलीय सांद्रता वाले भाग की ओर जल का प्रवाह परासरण कहलाता है |

(k) एंडोसाइटोसिस (Endocytosis) : प्लाज्मा झिल्ली के सहारे कोशिका द्वारा पदार्थों का अंतर्ग्रहण (Ingestion) एंडोसाइटोसिस कहलाता है |

(l) एक्सोसाइटोसिस (Exocytosis) : इस प्रक्रिया में पुटिका (Vesicle) झिल्ली प्लाज्मा झिल्ली से टकराकर अपने पदार्थों को आस-पास के माध्यम में निकाल देती है | इसे ‘कोशिका वमन (Cell Vomiting)’ कहते हैं |

यह भी देखें 

  1. Abhinay Sharma Maths Solved Questions Paper
  2. Advance Level Of Biology Complete Notes In Hindi Pdf
  3. Indian Geography Handwriting Notes In Hindi
  4. English Grammar Book PDF In Hindi
  5. 12 Tenses In English Grammer In Hindi – Type , Rules , Charts, PDF FREE Download
  6. 721 Gk के बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्न
  7. List of Indian Government Schemes
  8. सामान्य विज्ञान – अतिमहत्वपूर्ण 500+ प्रश्नोत्तरी PDF Download
  9. वंश और उनके संस्थापक के महत्वपूर्ण प्रश्न
  10. Some Math Important Advance Maths Formula PDF

CLICK HERE TO DOWNLOAD PDF

कोशिका के अवयव :

कोशिका के अवयव निम्नलिखित होते हैं-

1. प्लाज्मा झिल्ली : कोशिका के सभी अवयव एक पतली झिल्ली द्वारा घिरे रहते हैं जिसे कोशिका झिल्ली कहते हैं | यह जंतु, पादप व सूक्ष्म जीवों की कोशिकाओं में पाई जाती है और इसका निर्माण लिपिड्स, प्रोटीन और कुछ मात्रा में कार्बोहाइड्रेट से मिलकर होता है | कोशिका भित्ति पतली और अर्द्धपारगम्य ( Semipermeable) झिल्ली है जिसका कार्य कोशिका के अवयवों को इकट्ठा रखना और कोशिका के अन्दर व बाहर जाने वाले पदार्थों का निर्धारण करना है |

2. कोशिका भित्ति : यह केवल पादप कोशिका में पाई जाती है और सेलुलोज की बनी होती है | यह कोशिका के की सुरक्षा के साथ-साथ उसके निश्चित आकार व आकृति को बनाये रखने में सहायक है| यह कोशिका झिल्ली के बाहर पायी जाती है|

3. केन्द्रक : यह कोशिका का सबसे प्रमुख अवयव है जो कोशिका के प्रबंधक (Manager) के समान कार्य करता है | केन्द्रक (Nucleus ) में धागे जैसी संरचना वाला पदार्थ भरा होता है, जो प्रोटीन और डीएनए( Deoxy Ribonuclic Acid) से बना होता है और ‘क्रोमैटिन’ कहलाता है| वंशानुगत गुणों को एक पीढ़ी से दुसरी पीढ़ी तक ले जाने वाले गुणसूत्रों (Chromosome) का निर्माण इसी क्रोमैटिन से होता है | क्रोमैटिन के अलावा केन्द्रक में गोल सघन रचनाएँ पाई जाती है जिन्हें केंद्रिका (Nucleolus) कहा जाता है

केन्द्रक (Nucleus) केंद्रिका (Nucleolus)
1. इसमें जीव की आनुवांशिक जानकारी निहित होती है| 1. यह केन्द्रक का घटक है|
2. यह दो झिल्लियों से घिरा होता है| 2. यह झिल्ली से घिरा नहीं होता है|
3. यह कोशिका की कार्यप्रणाली और संरचना को नियंत्रित करता है | 3. यह राइबोसोम की उप-इकाइयों (Sub-Units) का संश्लेषण करता है|

4. साइटोप्लाज्म (Cytoplasm): यह कोशिका का वह भाग है जो प्लाज्मा झिल्ली और केन्द्रक जाल (Nuclear Envelope) के मध्य पाया जाता है| इसकी आतंरिक परत को एंडोप्लाज्म (endoplasm) और बाहरी परत को एक्टोप्लाज्म (ectoplasm) नाम से जाना जाता है| साइटोप्लाज्म में साइटोसोल (cytosol) से बना होता है जिसमें अनेक कोशिकांग (Organelles) व अन्य उत्पाद (जैसे – स्टार्च व लिपिड्स) पाए जाते है |

(i) एंडोप्लाज्मिक रेटिकुलम (Endoplasmic Reticulum -ER):  इसका प्रमुख कार्य कोशिका झिल्ली और केन्द्रक झिल्ली आदि का निर्माण करने वाली प्रोटीनों व वसाओं (Fats) का परिवहन (Transport) करना है |इसके कुछ भागों पर किनारे-किनारे राइबोसोम लगे रहते हैं| ये दो प्रकार की होती हैं :

(a) रुक्ष एंडोप्लाज्मिक रेटिकुलम (Rough Endoplasmic Reticulum -RER): इनमें संश्लेषण के लिए राइबोसोम पाए जाते है |

(b) मृदु एंडोप्लाज्मिक रेटिकुलम (Smooth Endoplasmic Reticulum -SER): इनमें राइबोसोम नहीं पाए जाते हैं और इनका उद्देश्य लिपिडों का स्रावण (SecretiOn) होता है |

(ii) राइबोसोम्स (Ribosomes) :  यह राइबोन्यूक्लिक अम्ल (Ribonucleic Acid) व प्रोटीन की बनी होती है और प्रोटीन संश्लेषण(Synthesis) द्वारा प्रोटीन का निर्माण करती है ,इसीलिए इसे ‘प्रोटीन की फैक्ट्री’ भी कहा जाता है | इसका नामकरण रॉबर्ट ने किया था|

(iii) गॉल्जीकाय (Golgi Body) : इसकी खोज कैमिलो गॉल्जी ने की थी |यह सूक्षम नलिकाओं( Tubules) के समूह और थैलियों का बना होता है | यहाँ कोशिका द्वारा संश्लेषित प्रोटीन व अन्य पदार्थों की थैलियों के रूप में पैकिंग की जाती है और उन्हें गंतव्य स्थान (Destination) तक पहुँचाया जाता है और कुछ पदार्थों को कोशिका से बाहर भी निकाला जाता है | इसे ‘कोशिका का यातायात प्रबंधक’ भी कहा जाता है |ये कोशिका भित्ति और लाइसोसोम का निर्माण भी करती हैं |

(iv) लाइसोसोम (Lysosomes) : इसकी खोज डी डूवे ने की थी, जोकि सूक्ष्म, गोल और इकहरी झिल्ली से घिरी थैलीनुमा रचनाएँ होती हैं | इसका प्रमुख कार्य बाहर से आने वाले प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और विषाणुओं का पाचन करना है अतः यह एक प्रकार से कोशिका की ‘कचरा निपटान प्रणाली (Garbage Disposable System) है|  इसमें 24 तरह के एंजाइम पाए जाते हैं | इसे कोशिका की आत्मघाती थैली भी कहा जाता है क्योंकि कोशिका के क्षतिग्रस्त होने पर यह फट जाती है एंजाइम स्वयं की ही कोशिका को समाप्त कर देते हैं |

(v) माइटोकोंड्रिया (Mitochondria) : इसकी खोज अल्टमैन ने की थी और इसका नामकरण बेंडा ने किया था | ये कोशिका का श्वसन स्थल है और ऊर्जायुक्त कार्बनिक पदार्थों का ऑक्सीकरण यहीं होता है जिससे काफी मात्रा में ऊर्जा (एटीपी) का उत्पादन होता है, इसीलिए इसे ‘कोशिका का शक्ति केंद्र’ (Power House of the Cell) भी कहते हैं |

(vi) लवक (Plastids) :  यह केवल पादप कोशिओकाओं में ही पाया जाता है और जंतु कोशिकाओं में अनुपस्थित होता है| इनका अपना स्वयं का जीनोम होता है और विभाजित होने की क्षमता भी रखते हैं | लवक के निम्नलिखित तीन प्रकार होते हैं :

a. वर्णी लवक (Chromoplasts): ये रंगीन लवक होते हैं और प्रायः लाल, पीले और नारंगी रंग के होते हैं |ये पौधों के रंगीन भागों, जैसे- पुष्प, बीज आदि में पाए जाते हैं और परागण (Pollination) के लिए कीटों को आकर्षित करते हैं |

b. हरित लवक (Chloroplasts): इसमें हरे रंग का पदार्थ क्लोरोफिल होता है जो पादपों को प्रकाश-संश्लेषण में सहायता करता है, इसीलिए इसे ‘कोशिका का रसोई घर’ भी कहा जाता है |

c. अवर्णी लवक (Leucoplasts): ये रंगहीन लवक हैं और सूर्य के प्रकाश से वंचित पादप के अंगों , जैसे- जड़, भूमिगत तना आदि में पाए जाते हैं और कार्बोहाइड्रेट (स्टार्च), वसा (Fat) और प्रोटीन के रूप में भोजन का संचय (Store) करते हैं |

(vii) रसधानी/रिक्तिका (Vacuoles): यह कोशिका की निर्जीव रचना है जो पादप कोशिकाओं में प्रायः बड़ी और केंद्र में स्थित होती हैं और जंतु कोशिकाओं में छोटी और अस्थायी  होती हैं | इसमें तरल पदार्थ भरा रहता है|  यह पादप कोशिकाओं को दृढ़ता (Rigidity) प्रदान करता है और चयापचय (Metabolic) से उत्पन्न विषैले उप-उत्पादों (By-Products) का संचय (Store) करता है |

(viii) पेरौक्सीसोम्स (Peroxisomes): यह छोटा और गोल जैसा कोशिकांग है जिसमें शक्तिशाली ऑक्सीडेटिव एंजाइम पाए जाते हैं| ये कोशिका के विषैले पदार्थों को कोशिका से बाहर करते है |

(ix) तारककाय (Centrosome) : यह केवल जंतु कोशिकाओं में पाया जाता है और कोशिका विभाजन में सहायता करता है | इसकी खोज बोबेरी ने की थी | इसके अन्दर एक या दो कण जैसी संरचनाएं पाई जाती हैं जिन्हें सेंट्रियोल्स कहते हैं |

Jagranjosh

जंतु व पादप कोशिका की तुलना:

जंतु कोशिका पादप कोशिका
1. प्रायः आकार में छोटी होती हैं 1. आकार में जंतु कोशिका से बड़ी होती हैं
2. कोशिका भित्ति (Cell wall) अनुपस्थित रहती है 2. सेलुलोज ( जैसे-प्लाज्मा झिल्ली) से बनी कोशिका भित्ति उपस्थित रहती है
3. लवक (Plastids) युग्लीना के छोड़कर  अन्य जंतुओं में अनुपस्थित रहते हैं 3. लवक (Plastids) उपस्थित होते हैं
4. रसधानी/रिक्तिका (Vacuoles) बहुत छोटी और अस्थायी होती हैं 4. विकसित पादप में रसधानी/रिक्तिका (Vacuoles) बड़ी होती हैं
5. इसका आकार लगभग वृत्ताकार होता है 5. इसका आकार लगभग आयताकार होता है
6. तारककाय (Centrosome) और सेंट्रियोल्स (Centrioles) उपस्थित रहते है 6. तारककाय (Centrosome) और सेंट्रियोल्स (Centrioles) अनुपस्थित रहते हैं

The above PDF is only provided to you by SSCUPSCNOTES.COM this Pdf is not written by us, if you like the PDF or if you have any kind of doubt, suggestion or question about the Pdf, then give us your Do contact on mail id- SSCUPSCNOTES@GMAIL.COM or you can send suggestions in the comment box below.

Leave A Reply

Your email address will not be published.